आँसू, ग़म, तन्हाई बाँटो

आँसू, ग़म, तन्हाई बाँटो दर्दों की पुरवाई बाँटो हक़ सियासत ने दिया है दु:ख की तुम शहनाई बाँटो पहले क़त्ले-आम …