घुलमिल

Home » घुलमिल

प्रतीक्षा

By | 2018-02-11T17:01:22+00:00 February 8th, 2018|Categories: कविता, हरिवंश राय बच्चन|Tags: , , , |

मधुर प्रतीक्षा ही जब इतनी, प्रिय तुम आते तब क्या होता? मौन रात इस भाँति कि जैसे, कोई गत [...]