चिट्ठी

Home » चिट्ठी

चिट्ठी का फटा कोना

By | 2018-01-20T17:04:22+00:00 December 25th, 2017|Categories: लघुकथा|Tags: , , |

ससुर जी ज़ोर से हंस कर बोले अरे भागवान तुम्हे पढ़ना नहीं आता तो कम से कम पढवा ही लेतीं बहू से ।और बहू तुमने भी पढ्ने का कष्ट नहीं किया ? "