जग

Home » जग

साथी, सब कुछ सहना होगा!

By | 2018-02-11T17:01:21+00:00 February 8th, 2018|Categories: कविता, हरिवंश राय बच्चन|Tags: , , |

मानव पर जगती का शासन, जगती पर संसृति का बंधन, संसृति को भी और किसी के प्रतिबंधों में रहना [...]