ज़िन्दगी

मुझे पाने में बस कुछ ही तो दूरी है.. ये खुशी भी दूर तलक फैले आसमां जैसी है.. जो क़रीब है वो दूर नज़र आता है.. जो दूर है उसका असर छा जाता…

Continue Reading
मौत से ठन गई (अटल स्मृति)
shree atal bihari 4 hindilekhak.com

मौत से ठन गई (अटल स्मृति)

अटल स्मृति: श्रद्धांजलि  श्रंखला ठन गई! मौत से ठन गई!  जूझने का मेरा इरादा न था, मोड़ पर मिलेंगे इसका वादा न था,  रास्ता रोक कर वह खड़ी हो गई, यों लगा ज़िन्दगी…

Continue Reading
Close Menu