मुकाम

यह समुन्दर के किनारे से गुजरती राह की मंजिल तुम कहाँ तक जाओगी जो जो निशान छोड़ रही तुम अपने वजूद के इस रेत की जमीन पे समुन्दर की लहर उसे तभी की…

Continue Reading

अफसुर्दगी की कहानी।

एक नई गजल :- समन्दर के लबों पर तिष्नगी है। मुझे इस बात की अफसुर्दगी है।। वहाँ अपनी भलाई देख लेते। जहाँ मौजूद तेरी बन्दगी है।। चमक फीकी कभी होती नहीं है। अगर…

Continue Reading

वक्त

हर खुशी है लोगों के दामन में पर एक हँसी के लिए वक्त नहीं, दिन-रात दौड़ती दुनिया में ज़िंदगी के लिए ही वक्त नहीं, माँ की लोरी का एहसास तो है पर माँ…

Continue Reading

ये जिन्दगी

ये जिन्दगी हे, बस यूं ही कटती चली जायेगी, क्या होगा इसका ये नहीं कोई बता पायेगा, कोई हंसते, कोई रोते तो कोई रूलाकर छोड जायेगा, बीत गया इसका पल वो सुहाना नही…

Continue Reading

पड़ाव

तरही गजल :- देखा नहीं है आप को अरसा गुजर गया।। दीदार की खातिर भी मैं इधर उधर गया।। आदत मेरी खराब थी लोगों की नजर में। करके लिहाज आप का काफी सुधर…

Continue Reading

हमारी सोंच

आते हैं चले जाते हैं,  हम तो सिर्फ सोंचते रह जाते हैं किस कदर हम सोंचे किस रिस्ते को, यहाँ तो हर रिस्ते बिक जाते हैं दुनियाँ का अजब दस्तूर है, हर एक…

Continue Reading

एक सीमान्त

नम्रता को उसके गायक पति शिबू भोला ने डेढ़ घंटे बाद फ़ोन करने की बात कही थी। बेचैनी में उसने जैसे डेढ़ घंटे के 5400 सेकण्ड्स पूरे होते ही शिबू को फ़ोन मिलाया।…

Continue Reading

केवल विषय ही नहीं, खेल भी है विज्ञान

केवल विषय नहीं, खेल भी है विज्ञान - आइवर यूशिएल हमारे परम्परागत समाज में बड़ों की हमेशा यही इच्छा रहती है कि उनकी अगली पीढ़ी उनसे आगे निकले तथा जीवन में धन व…

Continue Reading
Close Menu