तौबा! यह दोगले लोग (हाय-व्यंग्य कविता)

मगर बुराई करें, कोसे पीठ पीछे,
आपसे मिले वोह बड़े हमदम बनकर,