क्यों क्रूर है बरिबंड है…

मुक्तक… उदन्त मार्तण्ड है ज्वलंत क्यों पाखंड है क्या उष्णता पाखंड की रवि ताप से प्रचंड है  !   कथन …