हे कल्कि !

हे कल्कि! हे कल्कि! हे तारण हार! अतिशीघ्र आओ, और  इस धरा के दुःख दूर करो . हे देव! मजबूर, मासूम व् निर्दोष प्राणियों की रक्षा करो. अपने अस्र्त्रों-शस्त्रों से दुष्टों का संहार करो. कलयुग…

Continue Reading
Close Menu