गायिका

करू क्या बड़प्पन ॥ सुहाना हो लिखते ॥ तुम्हारी गजल को ॥ खुद गा रही हूँ ॥ शब्दो की परिभाषा ॥ भाने लगी है ॥ सुरीले स्वरो में ॥ गुन-गुना रही हूँ ॥…

Continue Reading
Close Menu