प्रतिस्पर्धा

राहुल   अपनी  कक्षा   का   सबसे   मेघावी   व्  बुध्धिमान  छात्र   था. पढाई   के साथ-साथ   वह   विद्यालय   में होने वाली अन्य  गतिविधियों-खेल कूद व् सांस्कृतिक   कार्यक्रमों   में भी बढ़-चढ़  के भाग लेता था.  विद्यालय   के  …

Continue Reading

क्या पा लिया आज़ादी लेकर

क्या पा लिया आज़ादी लेकर , हम तो गुलामी में ही अच्छे  थे। बेकार बहाया शहीदों ने अपना खून, वोह भी तो किसी के  लाल थे। १०० वर्ष बाद मिली  जो खैरात में,…

Continue Reading

बचपन के दिन भी क्या दिन थे

बचपन के दिन भी क्या दिन थे! ना चिंता, ना कोई तनाव, ना तो ढेर सारी ख्वायिशें, ना ही बेशुमार अरमान। बस कुछ कहानी की पुस्तकें, एक प्यारी से सलोनी सी गुडिया, और…

Continue Reading

मुझे भारत कह कर पुकारो ना

मुझे  भारत  कह कर  पुकारो ना  मत  पुकारो  मुझे  तुम  India, मुझे  मेरे नाम  से पुकारो  न  , निहित  है जिसमें  प्यार व्  अपनापन , मुझे भारत  कह कर  पुकारो  ना.  तुमने कभी …

Continue Reading

काश !तुम रूबरू होते … (ग़ज़ल )

(मेरे अज़ीज़  फनकार के नाम प्रेम -पत्र )   ऐ मेरे हमदम ,हम राज़ ,काश तुम रूबरू होते ... यूँ  तो हो जाता है दीदार ,तुम्हारी तस्वीर से मगर , क्या   लुत्फ़…

Continue Reading

मुहोबत (ग़ज़ल )

                ज़माना   गुज़र गया तुम्हें याद करते ,                 तस्सवुर से तेरी तस्वीर  में रंग भरते.                तुम्हारी  तलाश में  हम भटका किय इस कदर,                जिंदगी में  हर मुसाफिर से…

Continue Reading

विश्वास (कविता)

विश्वास पर ही यह , दुनिया है टिकी । और इसीलिए मेरी भी विश्वास भरी दृष्टि , तुझपर है  टिकी । माझी नदी /सागर में नाव छोड़ता है , किसी विश्वास पर। सिपाही …

Continue Reading
  • 1
  • 2
Close Menu