भूख – प्यास की क्लास ….!!

भूख - प्यास की क्लास ....!! तारकेश कुमार ओझा क्या होता है जब हीन भावना से ग्रस्त और प्रतिकूल परिस्थितियों से पस्त कोई दीन - हीन ऐसा किशोर कॉलेज परिसर में दाखिल हो…

Continue Reading

जिंदगी (बचपन)

जिंदगी बचपन बड़ा होता हैं आँगन में और आँगन में तैरती हैं नाव उड़ती हैं पतंग खेल ते हैं खिलोने आ जाते हैं राहों में और राहें मिलती हैं तिरहों पर चोरहो पर…

Continue Reading

नन्हे फ़रिश्ते

लेकर कंधे पर बस्ते निकल पड़े हैं नन्हे फ़रिश्ते लगता है कि ज़िंदगी की जंग लड़ने जा रहे हैं यह नन्हे मखमली हाथ कलियों से नाज़ुक उंगलियां नहीं पकड़ पाती हैं कलम हम…

Continue Reading

बारिश और बचपन

बारिश, मिट्टी की खुशबू, कागज की कश्ती... बारिश में भीगने पर बच्चे को डांट रहे पिता को देख, अपने बचपन के गलियारों का चक्कर लगा आई..... मैं अपनी बालकनी में बारिश का शोर…

Continue Reading
  • 1
  • 2
Close Menu