“साथिया यही कहना कि दिल न लगे”

  कितनी प्यारी सुबह की बेला आई हुई चिड़ियों कि चहक,आई फूलों की महक, भौंरों का गुनगुनाना, हवाओं का बलखाना …