शिक्षित बेटीयाँ मजबूत समाज

मुनि के पापा जैसे ही खेतों से हल जोत के आए , तो पास बैठी मुनि की माँ बोली - अजी सुनों कल सुबह जल्दी उठना , मुनि का कल पास वाले स्कूल…

Continue Reading शिक्षित बेटीयाँ मजबूत समाज

मैं ब्रह्म ज्ञान हूँ

मैं रोज़गार ढूँढ रहा नौजवान हूँ। मैं तो भविष्य देश का हूँ वर्तमान हूँ।।   तू पास फ़ैल का न गुणा भाग कर कभी। घबरा न ज़िन्दगी मैं तेरा इम्तिहान हूँ।।   हर…

Continue Reading मैं ब्रह्म ज्ञान हूँ

विश्वासघात

" तुमने मुझे धोखा दिया है , मेरी सम्वेदनाओं के साथ विश्वासघात किया है .वे इस आघात को सहन नहीं कर सकतीं  .इससे मैं विछिप्त हो जाऊंगा ." " यह सब नियति का…

Continue Reading विश्वासघात

शीला और पढ़ाई

यह एक काल्पनिक कहानी है। कहानी के पात्र भी काल्पनिक है।। एक समय की बात है हम एक कस्बे में रहते थे हमारे मकान के सामने एक मकान बनना शुरू हो गया वहां…

Continue Reading शीला और पढ़ाई