एक पत्र तारों के नाम

ओ टिमटिमाते तारे, सुदूर गगन मे विचरण करनेवाले, चंदामामा के दोस्त, कैसे हो आजकल ? बादलों की धुंध मे साफ़-साफ़ …