जिसको हमनें समझ बैठा…

ये मेरे मालिक कैसा-कैसा और दिन दिखायेगा
तूने ऐसी क्या हमसे करवाना चाहता है ये मालिक

कैसे लक्ष्य सफल होगा (प्रेरणा)…

फूलों से आकर्षित करना बिन बोले बिन समझाये ! खुश्बू बिना किसी शर्त ही हम तक अपनी पहुँचाए !! इन …

उस पार उतर जाना अच्छा…

मुक्तक…   घुंट घुंट के नित मरने से एक बार ही मर जाना अच्छा जो दुष्कर कार्य लगे पहले उसको …