मार्क्स

Home » मार्क्स

काश मैं अमिताभ बच्चन का अंतर्मन होता

By | 2018-01-20T17:04:18+00:00 December 29th, 2017|Categories: कहानी|Tags: , , |

(हास्य ) मैंने एक कहानी लिखी और मेरा अपने अंतर्मन से वार्तालाप शुरू हो गया। अंतर्मन - “छी! क्या [...]