फ़िर वह लौट ना सका

मुझे अपनी बाहों में खिलाने वाला मेरा हौसला बढ़ाने वाला सूरज की तरह तपना सिखाने वाला अपने कन्धों पर चढ़ाकर …

मौत से ठन गई (अटल स्मृति)

अटल स्मृति: श्रद्धांजलि  श्रंखला ठन गई! मौत से ठन गई!  जूझने का मेरा इरादा न था, मोड़ पर मिलेंगे इसका …

अब मैं आता हूँ मात्र

अब मैं आता हूँ मात्र ! (मधुगीति १८०२११) अब मैं आता हूँ मात्र, अपनी विश्व वाटिका को झाँकने; अतीत में …