मेरे यारा…

सावन भादों की पुरवैया यूँ ठंडी-ठंडी
झूमें बरसे, यूँ रिमझिम बरसे बलखाये
तन मन महकाए, दिल धड्काए
है प्यास मिलन की यार से