मैं नदी होती

गर मैं एक नदी होती सागर में गिर जाती इसके पानी में मिल जाती इसके रंग में घुल जाती इसकी गहराई में झांक आती इसकी लहरों संग बह सागर के उस पार क्या…

Continue Reading

कैसा मौसम

यह कैसा मौसम है आसमान में न सूरज है न चाँद कायनात के रंगों को भी लगता है किसी गम ने खा लिया है आज तभी वो सारे सुंदर, सुनहरे, तीखे, भड़कीले रंग…

Continue Reading

इश्क़ के रंग

हाथों में लेकर गुलाल मैं ढूढ रहा उन नजरों को , जिससे आंखे मिलाकर रंग पाऊ उसके सफ़ेद से चेहरों को | . पर मिली नहीं वो कहीं बहुत ढूढा इस गली, उस…

Continue Reading

रंग

माँ मेरे पास आयी और डांटने लगी यह क्या अभी तुम ऐसे ही बैठी हो आज तुम्हारी रिंग सेहरामनी और संगीत है उठो तैयार हो जाओ। चारो ओर खुशी का माहौल था कल…

Continue Reading

कविता

प्रेमरंग की होली शीत ऋतु की हुई विदाई। ग्रीष्म ऋतु में आई होली।। खिले टेसू के फूल प्यारे। केसरिया ये प्यारे -प्यारे।। परीक्षा भी नजदीक आई। करो जमकर तुम पढ़ाई।। दादा से पिचकारी…

Continue Reading

होली

रंग उड़े गुलाल उड़े प्रिय तुम्हारा प्यार उड़े मुरली की मधुर तान उड़े उड़ जाए मेरी चुन्दरिया पवन बिखरे रंग रंगीले मौसम में अजब बहार उठे रघुनाथ की सीता नाचे कृष्ण की राधा…

Continue Reading

होली का रंग

होली का रंग लाया उमंग , कहता है यारा चल मेरे संग। बँटती है भंग, बढ़ती हुड़दंग, गुलाल भरता अंगों पर रंग । गोपियाँ करती, ग्वालों को तंग, प्रेम में रंगता मन का…

Continue Reading

मैं बेटी हूँ

मैं बेटी हूँ ... ================== मैं बेटी हूँ आजाद परिंदे सी मुझ को उड़ने दो जीत जाऊंगी जग से मैं जग से मुझ को लड़ने दो। मैं बेटी हूँ... मत मारो माँ मुझे…

Continue Reading

गुब्बारे वाला

गुब्बारे ले लो गुब्बारे वाला नीले पीले हरे गुलाबी हर रंग के गुब्बारे लाया चिया, भूमि, निखिल, कन्हैया आओ बच्चों घर से निकलो शोर मचाती, चिया, निकली मां मुझको गुब्बारे ले दो लाल…

Continue Reading

व्याकुलता

औचित्य क्या मेरे जीवन का नही समझ में आया है इतराते फिरते चकाचौंध में पाश्चात्य रंग ने भरमाया है । मन में व्याकुलता है, कैसे धीर धरू रुदन कर रही धरती माँ ,कैसे…

Continue Reading
Close Menu