कद

मेरा कद इतना बड़ा हो गया नहीं सुनता अब मेरी भी आसमानों में छलांग मारे कीड़े मकोड़े समझे जी ऊपर से जब नीचे देखे सबको नीचा समझे जी आलस में इतना भरा हुआ…

Continue Reading
Close Menu