पुत्रमोह

पुत्रमोह ही तो था कि बेटे की लालच में किशोरीलाल ने दुबारा शादी करने का फैसला लिया था । उसकी बीवी को पिछले महीने फिर से बेटी हुई, अब किशोरीलाल की चार लड़कियां…

Continue Reading

कन्या ब्याह

विधा- चौपाई मनहर माया मद मन मोहे , मंगल रस जीवन भर सोहे ।। लक्ष्मी सी जब बहु घर आवे, बिन लक्ष्मी तब मन दुख पावे ।। कन्या ब्याह बाप दुख जागे ,लालच…

Continue Reading
Close Menu