शोर

सारा वक्त परेशां से थे हम, ना जाने क्या शोर था ; बहुत कुछ टूटने की आवाजें थी, दिमाग सै सोचा जो इक पल, तूफां था जो दिल में उठा था| अंजना योगी

Continue Reading

आइना

गिरहबन्द गजल प्रस्तुत है :- कुछ हवा का भी रुख जानना चाहिए।। रूबरू वक्त का आइना चाहिए। सामने से अगर वो दिखाई न दें। खिड़कियों से हमें झांकना चाहिए।। जिन्दगी में अगर कुछ…

Continue Reading

जीवन की आपाधापी में

जीवन की आपाधापी में कब वक्त मिला कुछ देर कहीं पर बैठ कभी यह सोच सकूँ जो किया, कहा, माना उसमें क्या बुरा भला। जिस दिन मेरी चेतना जगी मैंने देखा मैं खड़ा…

Continue Reading

जिसने तुझे राेका हुआ

वशीभूत तू मन के तकी जिसने तुझे राेका हुआ देख तेरे साथ अब कितना बडा़ धाेखा हुआ ।। खुशनसीबी क्या तेरी तेरे राेम मे बैठा हुआ पर देख प्यारे गाैर से कैसा तूने…

Continue Reading
Close Menu