जीवन की आपाधापी में

जीवन की आपाधापी में कब वक्त मिला कुछ देर कहीं पर बैठ कभी यह सोच सकूँ जो किया, कहा, माना …

जिसने तुझे राेका हुआ

वशीभूत तू मन के तकी जिसने तुझे राेका हुआ देख तेरे साथ अब कितना बडा़ धाेखा हुआ ।। खुशनसीबी क्या …