खल्लारी का सौन्दर्य वर्णन…

*खल्लारी का सौन्दर्य वर्णन* *……………………………….* वनमंच यवनिका उठते ही हुआ एक अनुपम दर्शन | नर्तकी नही दर्शित होती फिर कौन …

निम्मी

वह पंजों को हाथ की तरह फैलाकर बीच में अपना काला चितकबरा थूघुन रुखकर नींद की मुद्रा में लेटी थी, लेकिन …