दीवारें बोल उठेंगी

ऐसा भी कहीं होता है! कुछ भी, विज्ञापन दिखा देते हैं। फिर सोचा एक बार ट्राई करने में क्या जाता है, मैंने दीवार की तरफ मुंह किया और पूछा क्या तुम बोलना जानती हो? उधर से आवाज आई, क्या आप सुनना पसंद करोगे? अरे वाह! यह तो चमत्कार हो गया। मैंने तो सुना था दीवारों के कान होते हैं, लेकिन इसकी तो जुबां भी है....

Continue Reading

सुनो बहू, क्या लाई हो

शादी को अभी कुछ ही वक़्त हुआ है......। मायके से ससुराल वापसी पर....,  सासू मां और  संग सहेलियां पूछने लगती हैं अक्सर .... मायके गई थी  क्या  क्या लायी...। एक तो वैसे ही…

Continue Reading

पुत्रमोह

पुत्रमोह ही तो था कि बेटे की लालच में किशोरीलाल ने दुबारा शादी करने का फैसला लिया था । उसकी बीवी को पिछले महीने फिर से बेटी हुई, अब किशोरीलाल की चार लड़कियां…

Continue Reading

खुदगर्ज

खुदगर्ज

प्रभा अभी एक ही निवाला मुँह में ले पाया थी कि राकेश के कुछ शब्दों ने उसे झकझोर कर रख दिया। शादी के काफी महीनों बाद पहली बार राकेश उसे रेस्टोरेंट मे खाना खिलाने लाया था वो खासी उत्साहित थी और खुश भी।

पिंक कलर की साड़ी पर सिल्वर कलर की बहुत ही महीन ऐमब्रोइडी हो रही थी मैचिंग की बिंदीं, चूड़ी, टॉप्स, गले का सैट उसके ऊपर खूब फब रहा था। वो इक दम परी लग रही थी। रेस्टोरेंट की तीसरी सीट पर दोनों आमने सामने वाली चेयर पर बैठे हुए थे।

 

मैन्यू कार्ड हाथ में थमाते हुए राकेश ने ही तो प्रभा से खाना ऑर्डर करने को कहा था। वो खाने का बेसब्री से इंतजार कर रही थी। उसकी निगाहें बार बार बरबस ही राकेश पर जा टिकती थी और राकेश तो चौतरफा नजर लिये कभी रेस्टोरेंट की छत, कभी दीवार, कभी काउन्टर, तो कभी गेट, और तो कभी वहाँ आये अन्य लोगों को। उसको तो मानो प्रभा की मौजूदगी से कोई फर्क ही नहीं पड़ रहा था। कि तभी खाने का इंतजार खत्म होता है खाना आता है। तब राकेश की नजऱ प्रभा पर पड़ती हैं प्रभा को कुछ गौर से देखने के बाद राकेश वह सवाल पूँछता है जिससे प्रभा सिहर जाती है राकेश कहता है कि- “तुमने तो मेरा पैसा देख कर ही मुझसे शादी की,तुम कितनी सैलफिस हो।”

 

प्रभा को पहले तो एक दम धक्का लगता है फिर वह उस दुनिया से बाहर आती है जिसमें कि वह खोई हुई थी रेस्तराँ के और भी लोगों की नजर अचानक ही प्रभा पर उसी सवाल के साथ पड़ जाती है। प्रभा अपने आप को सम्हालते हुए राकेश से कहती है—-“कि मेरी आपसे न तो लव मैरिज हुई है और ना ही मेरे कहने पर मेरी आपसे शादी हुई है। मेरी आपसे शादी तो मेरे माँ पापा की मर्जी से हुई है। और हर माँ पापा अपनी बेटी के लिये वही वर देखते हैं जो योग्य हो और जॉब करता हो। बेरोजगार और अयोग्य लड़के के घर वो जाते भी नहीं।”

 

प्रभा के जबाब के बाद राकेश के पास कुछ कहने को रहा ही नहीं राकेश सकपकाया सा खाने की तरफ देखने लगा और खाना खाने लगा। और प्रभा ने भी वह निवाला मुँह में लिया जो काफी देर से उनकी हाथों की अंगुलियों में दबा था पर अब खाने में वो स्वाद नहीं था जिस का कि प्रभा बेसब्री से इंतजार कर हरी थी। और अन्य लोगों को भी क्या मतलब सब अपना अपना खाना खाने लगे प्रभा की ओर से नजरें हटा कर। पर राकेश में कोई तब्दीली नहीं दिख रही थी वह फिर भी चौतरफा नजर लिये इधर उधर तकता हुआ खाना खा रहा था। प्रभा ने भी सोच विचार बंद किया और खाना खाने लगी।                                                                                                                                                                                                                                                                                              – पारुल शर्मा

(more…)

Continue Reading

सानिया (भाग 1)

सानिया( गलती कहां हो गई) सानिया हंसमुख स्वाभाव की और अल्हड़ लड़की थी घर या बाहर उसकी वजह से गुंजायमान रहता। जहां भी वह होती मनोहर वातावरण रहता, सानिया का कालेज पिकनिक जा…

Continue Reading

सीमा की पाबंदी

सीमा के बाप को मरे हुए दो बरस हो गए हैं।फलेरिया से जूझते हुए मौत मिली थी।अब से पहले तीन बहनों का ब्याह हो चुका है।आज सीमा की शादी है।इस बार तो छप्पर…

Continue Reading

अपशकुनी

हमारे यहां गांव के अंदर एक परिवार में लड़की का जन्म हुआ। लड़की अत्यंत सुंदर थी जो भी लड़की को देखता वही कहता कि लड़की बहुत सुंदर है बच्ची के पिता का नाम…

Continue Reading

कुंडली मिलान

मिश्रा जी -शर्मा जी बधाई हो कुंडली मिल गई है मैं कल अपने परिवार व पुत्र को लेकर आपकी लड़की को देखने आ रहा हूं | शर्मा जी- जी जरूर मिश्रा जी आप…

Continue Reading

अभागिन

वहां जाकर पता चला मेरी सहेली जो मुझे अति प्रिय थी उसके पति अचानक सड़क दुर्घटना में चल बसे, मैं दुखद भरी घटना सुनकर सम्भल नहीं पा रही थी उससे मिलने जाना था।

Continue Reading

साली आधी घरवाली

 शादी हुई ... दोनों बहुत खुश थे..! स्टेज पर फोटो सेशन शुरू हुआ..! ... दूल्हे ने अपने दोस्तों का परिचय साथ खड़ी अपनी साली से करवाया ~ "ये है मेरी साली, आधी घरवाली"…

Continue Reading
Close Menu