मोहब्बत मेरी।

मोहब्बत मेरी। ए मोहब्बत मेरी तुम , लगती हो जैसे ढलती शाम, उगता रवि,चलती पवन कवि की कविता,शायर की शायरी …