चाहता मन – फिर बचपन

करूँ मैं नेकियाँ दिनभर, या फिर बहुत अच्छा हो जाऊँ अहिल्या की आस, मीरा की भक्ति सा सच्चा हो जाऊँ। …