क्या आपको भी हिंदी बोलने मैं शर्म आती है?

जब विदेशी आप के राष्ट्रभाषा का सम्मान करें तो इससे अच्छी बात कुछ हो सकती है भला? मेरी आँखें उस समय खुली की खुली रह गयीं जब मैंने नेपर्विल ( शिकागो का उपनगर जो illinios राज्य का एक शहर है) के पब्लिक लाइब्रेरी में मुंशी प्रेमचंद की “गोदान” और “ठाकुर का कुआँ” देखी।

Continue Reading

मुफलिसी

रदीफ निभाइये के अन्तर्गत :- राहबर जब मेहरबान हो जायेगा।। तो सफर मेरा आसान हो जायेगा।। आप धरती का झुक कर नमन तो करो। आसमानों का सम्मान हो जायेगा।। कुछ धरातल के नीचे…

Continue Reading

शिक्षा का महत्व

बिन शिक्षा मानव है पशु समान नर हो या नारी सब हैं शिक्षा के अधिकारी होवे जो पुस्तक संग व्यवहारिक और सामाजिक ज्ञान वही मनुष्य है पाए जग में सम्मान शिक्षा है एक…

Continue Reading
Close Menu