स्वागत नववर्ष !

एक शायर अमीरुल्लाह तस्लीम की यह पंक्तियां सोचने पर विवश करती हैं।
सुबह होती है, शाम होती है। उम्र यूं ही तमाम होती है।