हँसी तुम्हारी

पकी हुई फसलों के खेतों से लहराती हुई हवा-सी मृदु-मादक-माधुर्य तुम्हारा सौंधे परिमल से भर देती श्वास-वास को प्राण-घ्राण को। …