ओ साथी मन के मुझे चाँद के परे ले चल

नज़र लग जाया करती है प्यार को खुलेआम यूँ,
रिवाज़ों का डर है, है यहाँ भेदभाव की हलचल