तभी हिंदुस्तान आज़ाद होगा

सह रहे थे जुर्म सदियों से अपने ही घर में जीना दूभर हो गया अत्याचारों का नहीं कोई अंत था …