प्रकृति में खुशी महसूस करें

आप और हम खुश क्यों नहीं रह पाते, प्रकृति तो हर रोज़ तुम्हें खुश करने के नाजाने कितने प्रयास करती है। इसे महसूस करने के लिए हमें स्वयं को भी प्रयास करना होगा,…

Continue Reading

क्यों कहते हैं?

चाय की दुकान पर नये-पुराने ग्राहकों के बीच एक ऐसा ग्राहक कुक्कू जिसे दोबारा कभी उस जगह नहीं आना था। कुक्कू के साथ उसकी रूसी गर्लफ्रेंड डेना भी थी। कुक्कू - “ओए! 2 चाय,…

Continue Reading

खबर करना

गिरहबन्द गजल :- याद आये हैं वो लम्हें जो गुजर कर आये। रफ्ता रफ्ता मेरे जज्बात उभर कर आये।। मैंने सोचा था आँसुओं को रोक लेंगे मगर। जब भी आये मेरे आँखों में…

Continue Reading

जिंदगी

ख़्वाबों का धूमिल हो जाना फिर शिद्दतों के बाद उन्हें पाना जिन्दगी इसी को कहते है उड़ती है जिंदगी ख़्वाबों के सहारे मिलते है शिद्दतों से किनारे उम्मीद पे है दुनिया कायम ना…

Continue Reading

कश्ती

कश्ती परिवार एक कश्ती उस पर सवार सब माँझी है रिश्तो का ताना बाना है जिंदगी  खुशी किनारा तो गम लहरें है जैसे समुद्र या नदी जब होती है शांत तो सब स्थिर…

Continue Reading

आइना

गिरहबन्द गजल प्रस्तुत है :- कुछ हवा का भी रुख जानना चाहिए।। रूबरू वक्त का आइना चाहिए। सामने से अगर वो दिखाई न दें। खिड़कियों से हमें झांकना चाहिए।। जिन्दगी में अगर कुछ…

Continue Reading

दो बूँद जिंदगी की (पोलियो ड्राप्स)

दो बूँद जिन्दगी की (पोलियो ड्राप्स)   फिर आ गया पोलियो रविवार लाओ हर बच्चा इस बार,हर बार,बार-बार ये दो बूँद अमृत से कम नहीं पिलाओ सबको रह न जाये बच्चा एक भी।…

Continue Reading

जंग जिंदगी की

दुरूस्त किया हालातों को और पैबंद लगाया हसरतों पर... कुछ चुनें आस्माँ के सितारें और टाँक दिए उम्मीदों पर नई स्फूर्ति नई उमंग तरोताजा एहसास और शुरू हुई जिंदगी से फिर एक नई…

Continue Reading

आते जाते सुख और दुख

अंधेरे हमको डारते हैं इतने हिम्मत भी अंधेरे देकर हैं जाते रोशनी का अहसास अंधेरों से है न होता अंधेरा अपनी जिंदगी में रोशनी की कीमत कहां पता चलती जिंदगी जो ठोकर खाती…

Continue Reading

नजर का नजराना

मेरे महबूव सनम तेरी नजर के नजराने से मैं नजरबंद हो गया हूँ मैं नजरबंद हो गया हूँ।.....   मेरा इश्क की कहानियों से न था कोई बास्ता जब से मिली हो तुम…

Continue Reading

सफर

जिन्दगी में हमने जब सोचा कहाँ तक आ गये।  धुन्ध से निकले तो देखा अब धुआँ तक आ गये।। ढूंढते हैं हम उन्हें और वो न हमको मिल सके। तो ईसी में खुश हैं…

Continue Reading

समर्पण

हां! यह समर्पण है ,आशा विश्वास का, वर्तमान भविष्य का ,नभ-धरा का, जन्म मरण का, सुख दुख का, भाग्य दुर्भाग्य का । जिसमें विश्वास और प्यार ऐसी प्रबल डोर है, जो हर डगमगाते…

Continue Reading
Close Menu