Warning: Declaration of QuietSkin::feedback($string) should be compatible with WP_Upgrader_Skin::feedback($string, ...$args) in /var/www/wp-content/plugins/ocean-extra/includes/wizard/classes/QuietSkin.php on line 12

Warning: session_start(): Cannot start session when headers already sent in /var/www/wp-content/plugins/userpro2/includes/class-userpro.php on line 197
अनुभव अप्रैल Archives - हिन्दी लेखक डॉट कॉम

बस तुम मेरे हाथों में अपना हाथ रख दो

मौन मन में बात कुछ आती नहीं बस तुम मेरे हाथों में अपना हाथ रख दो   मौन बेला ना खलेगी जिंदगी की प्रगति के शिखर पर कदम  यूं बढ़ते रहेंगे कड़वी दवा…

Continue Reading

ये जो दिन है, ना

ये जो दिन है, ना विरोध में है मेरे मुझे पता है ...इतने जल्दी नही जायेंगे मेरे यथार्थ चक्षु से...मगर करना क्या है अब रुकना है या फिर चलना अगर रुकता हूँ.. तो…

Continue Reading

राही

ऐ राही यू ना बडबडाओ, अकेले अपने आप से विफलता के डर को दूर भगाओ अपने आप से, न रूको, न थको तुम अपने काम से, बस ईमानदारी बनाये रखो सदा तुम अपने…

Continue Reading

कागज की आँखें

लगता है दिवारों पर टंगी आँखों को देखकर कइंर् युग चल रहे हैं एक साथ ऐसा जान पडता है मैं ही विरोधी हूँ इन बीते युगों का सामने देखता हूँ दीवार पर एक…

Continue Reading

चीचो

"चीचो आ गयी" "चीचो आ गयी" घ र से दफ्तर के लिये निकल रहा था कि तभी यह आवाज़ सुनायी पड़ी । मेरी माता जी अपनी नातिन को खिला रहीं थी । मेरीपुत्री…

Continue Reading

खामियां

ऐ ज़िन्दगी तेरी खामियों को दूर करना चाहता हूँ। जो नहीं दिया मुकद्दर ने मै उसे पाना चाहता हूँ। माना कई दफ़ा हारा हूँ। एक दफ़ा तुम्हे हराना चाहता हूँ। ऐ ज़िन्दगी तेरी…

Continue Reading

सवाल

मेरा एक सवाल है। ना जाने उसका क्या जवाब है। कभी हाँ तो कभी ना सुनने को ये दिल बेक़रार है। कभी वो तो कभी उसका ख्बाब मुझे बेचैन करता है। अब ये…

Continue Reading

किसानों की दशा

फसलें तैयार खड़ी खेतन पे किसान चिन्ता करे नोटन पे न वोटन पे । बगैर खाद की बौनी कर कें पानी खेतन पे दओ उधार अब जो आ गयो हारबेस्टर । सूखी फसलें…

Continue Reading

प्रताड़ित नारी

कहते है नर-नारी है समान पर क्यों होता नारी का ही अपमान कहने को है दोनों समान पर कहीं नहीं मिलता नारी को सम्मान जन्म से पहले ही होने लगती है प्रताड़ित नारी…

Continue Reading

दोनों हाथ लड्डू 

सब्जियों के बढ़ते भावों से परेशान होते हुये विपक्ष के एक नेता ने मुस्कराते हुये पत्रकारों से कहा- कि आम आदमी का तो जीना ही दूभर हो गया है , देखिए आलू-प्याज के…

Continue Reading

हर नदी के पास वाला घर तुम्हारा

हर नदी के पास वाला घर तुम्हारा आसमां में जो भी तारा हर तुम्हारा बाढ़ आई तो हमारे घर बहे बस बन गई बिजली तो जगमग घर तुम्हारा तुम अभी भी आँकड़ों को…

Continue Reading

एक ब्रेक  

"पिछले चार महीने से एक दिन की छुट्टी नहीं. लास्ट क्वॉर्टर का प्रेसर. जिंदगी एक कुत्ता दौड़ बन गयी है. कभी फायरिंग , कभी वॉर्निंग , कभी इन्सेंटिव का लालच , कभी प्रमोशन…

Continue Reading
Close Menu