बस तुम मेरे हाथों में अपना हाथ रख दो

मौन मन में बात कुछ आती नहीं बस तुम मेरे हाथों में अपना हाथ रख दो   मौन बेला ना …

नागनाथ सांपनाथ का चुनावी उत्सव: 

गजब ये है कि अपनी मौत की आहट नहीं सुनते, वो सबके सब परीशां हैं, वहां पर क्या हुआ होगा। …

तनहाई में आते हैं सपने प्यार के ,

तनहाई  में आते हैं सपने प्यार के , काटे नहीं कटते लमहे इंतजार के   चला आये कोई खबर लिये …

हर नदी के पास वाला घर तुम्हारा

हर नदी के पास वाला घर तुम्हारा आसमां में जो भी तारा हर तुम्हारा बाढ़ आई तो हमारे घर बहे …