माँ भारती

मातृभूमि से बढ़कर नहीं कोई उपलब्धि तेरी, सत्य विजय से पहले व्यर्थ ही हर रणनीति होती, धिक्कारती मां भारती तोड़ती पत्थर, देखती तुझे छिन्नतार कलम में तेरे वह पुरुषार्थ नहीं तू बैठ रहा…

Continue Reading

मैं हिंदुस्तानी माटी हूँ

मैं रेगुर हूँ, मैं कछार हूँ, मैं लाल हूँ लैटराइट हूँ, मैं मरु भी हूँ, मैं हिंदुस्तानी माटी हूँ।   मैं किसान की हूँ ,मैं कुम्हार की  हूँ, मैं खिलौने के शिल्पकार की…

Continue Reading

चलो मिलकर होली मनाते  है 

चलो पुरानी  रंजीसे  भूल जाते है धुन प्यार का गुनगुनाते है और कोई न बच पाए इस होली में चलो मिलकर होली मानते है   जात  धर्म मजहब को एक बनाते है हिन्दू-मुस्लिम…

Continue Reading

शिव-वंदन

हे सत्य सनातन हे अनंत हे शिव भोले हे जगत-कंत हे नीलकंठ हे गंगाधर जय शंकरशंभू हर हर हर हे महारूद्र हे मृत्युञ्जय जय शिव शंकर ना व्यापे भय हे शक्ति नियंता संघारक…

Continue Reading

हाथी और कुत्ते

देश, दुनिया, समाज आदि की बेहतरी की चिंता में नित्य घुले रहनेवाले किशन को अपने कार्यस्थल के सहकर्मियों से बड़ी आषा थी कि वे उनके इस चिंतन में शामिल होंगे। उसकी इस अपेक्षा…

Continue Reading

हिन्दी भाषा

  हिन्दी हिन्दुस्तान की भाषा छायी विश्व पटल पर, जिसकी गरिमा देख विदेशी नतमस्तक हो जाते, उनकी जननी संस्कृत भाषा देव वाणी कहलाये, उनकी उत्तराधिकारी बन हिन्दी करती राज जगत पर।। भक्तकाल का…

Continue Reading
Close Menu