मेरी बेटी

जब चलती मेरी गुडिया रानी॥ बजते घुघरू पाँव में॥ आ जा लली मेरी बाहों में॥ हर पल तुझको खुश रखूगी॥ सारी खुशियाँ पहनाऊँगी ॥ तू जो मांगे हीरे मोती ॥ अगर मिले तो…

Continue Reading

सारे जहाँ की खुशियाँ तेरे भी घर को आये

तू जगमगाये तेरा दीप जगमगाये || सारे जहाँ की खुशियाँ तेरे भी घर को आये || गंगा और यमुना सा निर्मल हो तेरा मन || अम्बर और धरा सा स्वच्छ हो तेरा तन…

Continue Reading
Close Menu