Loading...
विषयवस्तु पर आधारित रचना2018-01-28T20:04:20+00:00

वत्स ! क्या अब तुम वह नहीं, जो पहले थे

By |February 13th, 2018|Categories: कविता, बचपन|Tags: , , |

मधुगीति १८०२१२ ब वत्स ! क्या अब तुम वह नहीं, जो पहले थे? निर्गुण की पहेली, अहसास [...]

प्रतिस्पर्धा

By |February 12th, 2018|Categories: बचपन, बाल कथाएँ|Tags: , , |

राहुल   अपनी  कक्षा   का   सबसे   मेघावी   व्  बुध्धिमान  छात्र   था. पढाई   के साथ-साथ   वह   विद्यालय   में होने [...]

Load More Posts

काश !तुम रूबरू होते … (ग़ज़ल )

By |December 29th, 2017|Categories: गीत-ग़ज़ल, प्रेम पत्र|Tags: , , , |

(मेरे अज़ीज़  फनकार के नाम प्रेम -पत्र )   ऐ मेरे हमदम ,हम राज़ ,काश तुम रूबरू [...]

दोस्ती-एक प्रेम कहानी

By |May 26th, 2018|Categories: प्रेम पत्र|Tags: , , |

हर एक इंसान की अपनी कुछ अभिलाषाये होती है और वह सामने वाले से वही अपेक्षा करता है जैसे उसे क्या प्रसन्द है क्या नहीं। यही सभी बातें ध्यान में रखते हुए अपनी लाइफ को मैं जीने लगा। अब तो दिन ही नही साल बीतने लगे। मैं गांव से शहर अपनी आगे की शिक्षा के लिए आ गया। वो दिन भी आया जब पहली बार मैने उससे अपने दिल की बात कही। और उसने मेरी बात को स्वीकार किया।अब वह दोस्त के साथ मेरा प्यार भी है कुछ वक्त बाद मुझे उसने बताया कि अब आपके ही इंतेज़ार में पलकें बिछी रहती है कि कब मेरे सामने आओगे।

Load More Posts

रचना जमा करें

थीम पर आधारित रचना जमा करें

No form with the specified ID was found

थीम 3

14 फरवरी को शुरू होगा
0
0
0
0
Days
0
0
Hrs
0
0
Min
0
0
Sec